Shree Ganesh Ji Ki Aarti (गणेश आरती)

0

Ganesh Aarti

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा
एक दंत दयावंत, चार भुजाधारी
माथे पर तिलक सोहे, मूसे की सवारी
पान चड़ें, फूल चड़ें और चड़ें मेवा
लडुअन को भोग लगे, संत करे सेवा
अंधें को आँख देत, कोड़िन को काया
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया
सूरश्याम शारण आए सफल कीजे सेवा |
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा

Share.

About Author

Leave A Reply